सोने की लंका, द्वारिका क़े अलावा विश्वकर्मा जी क्या क्या बनाया था? Vishwakarma puja 2022

Vishwakarma puja 2022, विश्वकर्मा पूजा 2022 – आज है विश्वकर्मा पूजा और आज होती है भगवान विश्वकर्मा की पूजा विश्वकर्मा पूजा उन सभी लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार होता है जो फैक्ट्रियों में काम करते हैं। इस दिन देश के हर फैक्ट्री में भगवान विश्वकर्मा की पूजा की जाती है और उन सभी औजारों की पूजा की जाती है जो काम में आते हैं। विश्वकर्मा पूजा पूरे हिंदुस्तान में मनाया जाने वाला त्यौहार है।

विश्वकर्मा पूजा, vishwakarma puja, vishwakarma pooja, vishwakarma puja 17 सितम्बर, विश्वकर्मा पूजा 17 सितम्बर, विश्वकर्मा पूजा इन हिंदी, विश्वकर्मा जयंती, विश्वकर्मा, vishwakarma puja in India, vishwakarma jyanti, vishwakarma puja 2022 vishwakarma pooja 2022, विश्वकर्मा पूजा 2022, विश्वकर्मा जयंती 2022, vishwakarma puja wishes, vishwakarma puja status, vishwakarma puja wishes 2022

 दोस्तों क्या आपको पता है कि भगवान विश्वकर्मा ने किन-किन नगरों की स्थापना की थी जो उनमें से कुछ आज भी विद्यमान है। आज हम उन्हें नगरों का बारे में जाने वाले हैं। पिछले पोस्ट में हमने बात की थी भगवान विश्वकर्मा ने किन किन औजारों और अस्त्रों को बनाया था।

Vishwakarma puja 2022 in hindi

 देव शिल्पी विश्वकर्मा देवताओं के शिल्पकार है। देवराज इंद्र के लिए इन्होंने  देवलोक को बनाया और भी बहुत चीजें बनाई आइए जानते हैं एक-एक करके –

द्वारिका नगरी

द्वारिका नगरी

 द्वारिका नगरी का नाम आपने जरूर सुना होगा या गुजरात में स्थित है समुंदर के किनारे, द्वापर युग में द्वारिका नगरी भगवान कृष्ण की राजधानी थी। यादव के पतन के बाद या नगरी समुद्र में समा गई और आज भी समुद्र के अंदर विद्यमान है। इस नगरी को भगवान विश्वकर्मा ने भगवान श्री कृष्ण के कहने पर बनाया था, भगवान श्री कृष्ण ने मथुरा के बाद द्वारिका को अपनी राजधानी बनाई थी जिसका निर्माण देव शिल्पी विश्वकर्मा ने किया था।

इंद्रप्रस्थ

 अगर आपने महाभारत देखिए क्लीन जब तक का नाम जरूर सुनाऊंगा इंद्रप्रस्थ पांडवों की राजधानी थी जिसे भगवान श्री कृष्ण के कहने पर विश्वकर्मा ने बनाया। हस्तिनापुर के विभाजन के बाद दोस्त को पांडेय ने अपनी राजधानी बनाई। बाद में इसे दुर्योधन ने चौसर में जीत लिया और हस्तिनापुर में मिला लिया। 

सोने की लंका

 रावण की सोने की लंका भगवान विश्वकर्मा ने ही बनाया था जिसे पुलिस ऋषि ने भगवान शिव से दक्षिणा में मांग लिया था। इस सोने की भव्य नगरी को विश्वकर्मा जी नहीं बनाया था जिसे हनुमान जी ने एक समय इसका दहन किया था।

सुदामा पूरी

 सुदामापुरी का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने भगवान श्री कृष्ण के कहने पर किया था यह वही सुदामा नगरी है जिसे द्वारिकाधीश के कहने पर भगवान कृष्ण के मित्र सुदामा के लिए बनाई गई थी। 

अलकापूरी

 अलकापुरी स्वर्ग में स्थित एक नगर है जिसका निर्माण देव शिल्पी विश्वकर्मा जी ने किया था। 

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.