Sea buckthorn Super Fruit

हिमालय की 10 हज़ार फिट की ऊचाई पर पाए जाने वाला  sea buckthorn जिसे सुपर फल भी कहा जाता है, जिसमे 150 सी भी ज्यादा पोषक तत्व पाए जाते है इसमें विटामिन C की मात्रा संतरे सी 12 गुणा ज्यादा होती। आइये जानते sea buckthorn क्या होता है, इसमें कौन कौन से पोषक तत्व पाए जाते है, और इसे उपयोग करने सी क्या फायदा होता है।

Contents hide

Sea buckthorn क्या होता है?

Sea buckthorn एक सुनहरे संतरे रंग की एक जंगली बेरी है, जो जमीन से 10 हज़ार फिट की ऊचाई पर हिमालय के क्षेत्र मे पाया जाता है, जिसकी जड़े जमीन मे लगभग 200 की गहराई तक जाती है। जिस कारण सी इसमें बहुत अधिक मात्रा मे पोषक तत्व पाए जाते है। सी-बक्थोन मे विटामिन C की मात्रा सबसे अधिक होती है। इसे कुछ लोग संजीवनी बूटी भी कहते है।

वैज्ञानिको ने sea buckthorn के स्वस्थ लाभ को देखते हुए अब तक लगभग 120 सी अधिक वैज्ञानिक अध्यन हो चूका है। DRDO ने भी इसपर research किया है यह इंडियन आर्मी को supplement के तौर पर दिया जाता है।

Sea buckthorn एक ऐसा पौधा है जिसकी पत्तियों भी काम की है, फल भी काम के है, जड़े भी काम मे लायी जाती है, अर्थात इसका पूरा पेड़ उपयोग होता है

Sea buckthorn
सी बकथॉर्न

Sea buckthorn को सुपर फल क्यों कहा जाता है?

Sea buckthorn को सुपर फ्रूट की श्रेणी मे सबसे ऊपर रखा गया है क्योंकी इसमें 190 से  भी अधिक पोषक तत्व पाए जाते है। सी-बक्थोन की ORAC value सबसे ज्यादा 70000-102000(प्रति 100ग्राम ) होती है।

Sea buckthorn मे कौन कौन से पोषक तत्व पाए जाते है?

सी-बक्थोन की जड़े 200 की गहराई तक जाती है जिससे इसमें सबसे अधिक 190 से ज्यादा पोषक तत्व पाए जाते है सी-बक्थोन मे निम्न पोषक तत्व पाए जाते है –

1. संतरे से 12 गुणा ज्यादा विटामिन C

Sea buckthorn मे विटामिन C सबसे ज्यादा पाया जाता है संतरे से 12 गुणा ज्यादा। विटामिन C का पूरा फायदा लेने के लिए उच्च सांद्रता की आवश्यकता पड़ती है और सी-बक्थोन मे उच्च सांद्रता सबसे अधिक होती है। विटामिन C हमारे शरीर को भयानक रोगों जैसे कैंसर, स्कर्वी से रक्षा करता है, एस्कोर्बिक एसिड के रूप मे। साथ ही विटामिन C heart attack, high blood pressure, मोतियाबिंद से भी बचाता है। और हमारे immunity को boost करता है।

2. गाजर से 3 गुणा ज्यादा vitamin A

विटामिन A बिटा कैरोटीन के रूप मे पाया जाता है, और कैरोटीनायाड सबसे अधिक 39 sea buckthorn मे पाए जाते है

3. विटामिन E सभी फलो से ज्यादा

सी-बक्थोन मे सभी फलो से ज्यादा विटामिन E पाया जाता है। विटामिन E immunity को बढ़ाता है। और आँख और त्वचा को स्वस्थ रखता है।

4. विटामिन B काम्प्लेक्स का मुख्य स्त्रोत

सी-बक्थोन मे विटामिन B 12 का अच्छा स्त्रोत है इसमें विटामिन B काम्प्लेक्स का मुख्य स्त्रोत है।

5. सारे प्रोटीन सी-बक्थोन मे मिलते है।

मानव शरीर के लिए प्रोटीन अत्यंत आवश्यक होता है और शरीर मे पाए जाने वाला दूसरा महत्पूर्ण तत्व है। sea buckthorn मे सभी आवश्यक अमीनो एसिड उपस्थित होते है इसलिए sea buckthorn को कम्पलीट प्रोटीन का स्त्रोत माना जाता है।

6. भरपूर मात्रा मे खनिज लवण

सी-बक्थोन मे बहुत से खनिज लवण भरपूर मात्रा मे पाया जाता है जैसे पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन, मैगनिज, कॉपर, सोडियम और फॉस्फोरस इत्यादि।

Sea buckthorn मे एंटी  ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा मे पाये जाते है।

Sea buckthorn मे पर्याप्त मात्रा मे पाए जाते है फैटी एसिड ओमेगा 3, 6, 9 और दुर्लभ ओमेगा 7

विश्व मे लोग यह मानते है की ओमेगा 3 का मुख्य स्त्रोत केवल मछली ही है लेकिन यह बात गलत है sea buckthorn दुर्लभ ओमेगा 7 के साथ ओमेगा 3, 6, 9 का भी स्थाई और समृद्धि वनस्पति स्त्रोत है।

ओमेगा 3, 6 को आवश्यक फैटी एसिड कहा जाता है क्योकि सी-बक्थोन मे ओमेगा 3, 6 एक संतुलित अनुपात मे होते है और हमारे शरीर के लिए अत्यंत आवश्यक होते है।

फैटी एसिड ओमेगा 3, 6 के मुख्य स्त्रोत

  • सैल्मन मछली
  • जैतून का तेल
  • अखरोट
  • अलसी का बीज
  • Sea Buckthorn

दुर्लभ ओमेगा 7 सी-बक्थोन मे पाया जाता है।

ओमेगा 7 को polmitolic acid के रूप मे जाना जाता है जो शरीर के लिए आवश्यक और दुर्लभ फैटी एसिड है जो सी-बक्थोन मे भरपूर मात्रा मे पाया जाता है।

ओमेगा 7 के स्वास्थ्य लाभ

  1. ओमेगा 7 शरीर के वजन को नियंत्रण करने मे लाभदायक होता है।
  2. ओमेगा 7 के सेवन से स्वस्थ त्वचा , काले लम्बे बाल और नाख़ून स्वस्थ रहते है।
  3. जठरांत्र और पेट की समस्या मे लाभदायक
  4. Omega 7 के सेवन से ह्रदय स्वस्थ रहता है।
  5. ओमेगा 7 सुगर को कण्ट्रोल मे रखता है।
  6. ओमेगा 7 के सेवन से हमारी आंखे स्वस्थ रहती है।

एंटी ऑक्सीडेंट Sea buckthorn मे भरपूर मात्रा मे पाए जाते है।

हमारे शरीर को एंटी ऑक्सीडेंट क्यों चाहिए?

जब शरीर की कोशिकाये ऑक्सीजन का उपयोग करती है तो फ्री रेडिकल्स उत्त्पन होते है। इसके आलावा रेडिएशन, कमजोर पाचन तंत्र, प्रदुषण, ध्रूमपान, शराब भी फ्री रेडिकल्स को बढ़ाती है। और ये फ्री रेडिकल्स शरीर मे कोशिकाओ को नुकसान पहुँचती है जिसे ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस मे रूप मे जाना जाता है। एंटी ऑक्सीडेंट, फ्री रेडिकल्स को निष्क्रिय करते है और इनसे होने वाले नुकसान से बचाते है।

किसी भी खाद्य पदार्थ मे एंटी ऑक्सीडेंट की क्षमता जानने का पैमाना होता है ORAC वैल्यू और sea buckthorn का ORAC वैल्यू सबसे अधिक होता है।

Sea buckthorn का इतिहास और तथ्य

सी-बक्थोन के स्वस्थ लाभ व पोषक तत्वों का वर्णन 8वी सदी की प्राचीन तिब्बती चिकित्सा पुस्तक सीबू यदिआ के 30 पन्नों पर मिलता है।

Research के आधार पर यह भी कहा जाता जाता है की सी-बक्थोन के औषधि गुण संजीवनी बूटी से मिलते है जिसका उपयोग रामायण काम मे किया गया था।

मंगोलियाई शासक चंगेज खान अपनी सैनिको और घोड़ो को सी बकथॉर्न नियमित रूप से देता था जिससे उसके सैनिक ज्यादा सकती से लड़ते थे।

यह भी पढ़े –स्वस्थ रहने के ज़रूरी नियम

Sea buckthorn का उपयोग

आज के समय मे सी-बक्थोन उपयोग supplement के रूप मे, oil के रूप मे, जूस के रूपये मे भी किया जाता है।

Sea buckthorn oil

आज सी बकथॉर्न का तेल भी बनाया जाता है और उपयोग मे लाया जाता है।

Sea buckthorn juice

Sea buckthorn की बेरी का जूस बनाया जाता है, और शरीर के स्वस्थ लाभ के लिए उपयोग मे लेते है।

Biosash india No1 कम्पनी sea buckthorn उत्पादन के लिए

Biosash भारत की सबसे बड़ी कम्पनी है सी बकथॉर्न के उत्पादन के लिए, जिसके MD अर्जुन खन्ना जी है। biosash 2007 से सी बकथॉर्न विदेशो मे भी निर्यात करती है जिसमे USA, UAE, UK, हांगकांग, मलेशिया, सिंगापूर देश शामिल है।