MahaShivratri 2022 पूजन विधि, शुभमुहूर्त, शिवरात्रि कथा

Mahashivratri 2022 Date : फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को महाशिवरात्रि व्रत रखते हैं. इस वर्ष महाशिवरात्रि कल यानी 01 मार्च दिन मंगलवार को है.महाशिवरात्रि के दिन भगवान भोलेनाथ की पूज…

MAHASHIVRATRI की मान्यताएं

मान्यता है कि इस दिन महादेव का व्रत रखने से सौभाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है. महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव के लिंग स्वरूप का पूजन किया जाता है. यह भगवान शिव का प्रतीक है. शिव का अर्थ है- कल्याणकारी और लिंग का अर्थ है सृजन.

MAHASHIVRATRI PUJA: पूजा विधि

महाशिवरात्रि के दिन सबसे पहले शिवलिंग में चन्दन के लेप लगाकर पंचामृत से शिवलिंग को स्नान कराएं.

दीप और कर्पूर जलाएं.

पूजा करते समय ‘ऊं नमः शिवाय’ मंत्र का जाप करें.

शिव को बिल्व पत्र और फूल अर्पित करें.

शिव पूजा के बाद गोबर के उपलों की अग्नि जलाकर तिल, चावल और घी की मिश्रित आहुति दें.

होम के बाद किसी भी एक साबुत फल की आहुति दें.

सामान्यतया लोग सूखे नारियल की आहुति देते हैं.

Happy MAHASHIVRATRI PUJA SAMAGRI: महाशिवरात्रि पूजा सामग्री

महाशिवरात्रि 1 मार्च को मनाई जाएगी बेल के पत्ते महाशिवरात्रि पूजा सामग्री का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, जो पूजा के दिन ही नहीं तोड़े जाने चाहिए.

पूजा के लिए निम्नलिखित चीजें आवश्यक हैं:

1 शिव लिंग या भगवान शिव की एक तस्वीर

2 बैठने के लिए ऊन से बनी चटाई

3 कम से कम एक दीपक

4 कपास की बत्ती

5 पवित्र बेल

6 कलश या तांबे का बर्तन

7 थाली

8 शिव लिंग रखने के लिए सफेद कपड़ा

9 माचिस

10 अगरबत्तियां

11 चंदन का पेस्ट

12 घी

13 कपूर

14 रोली

15 बेल के पत्ते (बेलपत्र)

16 विभूति- पवित्र आशु

17 अर्का फूल

निम्नलिखित वैकल्पिक आइटम हैं

18 छोटी कटोरी

19 गुलाब जल

20 जैफली

21 गुलाल

22 भंग

शिव और शक्ति का हुआ था मिलन Shivmaharatri

महाशिवरात्रि को लेकर कई कथाएं प्रचलित हैं. एक कथा के अनुसार माता पार्वती ने शिव को पति रूप में पाने के लिए कठिन तपस्या की थी. जिसके फलस्वरूप फाल्गुन कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को माता पार्वती का विवाह भगवान शिव से हुआ. इसी कारण इस दिन को अत्यन्त ही महत्वपूर्ण माना जाता है.

mahashivratri 2021    
22, mahashivratri    
,mahashivratri images    

happy MahaShivratri,

mahashivratri 2021 date,    

happy mahashivratri 2021,    
mahashivratri kab hai    ,

happy mahashivratri images,    

happy mahashivratri image,

mahashivratri 2022,

mahashivratri status    

mahashivratri 2021 status    

mahashivratri wishes    
mahashivratri image    ,
mahashivratri 2021 photo,    
mahashivratri 2021 India 
mahashivratri kab ki है,
mahashivratri quotes,
mahashivratri 2020,
mahashivratri date,
mahashivratri 2021 images,
when is mahashivratri in 2021,
mahashivratri 2021 kab hai,
mahashivratri photo,
mahashivratri quotes in hindi,
beautiful mahashivratri images,
mahashivratri pic,
mahashivratri kab hai 2021,
mahashivratri 2021 wishes in hindi,
happy mahashivratri 2021 images,
mahashivratri status download,
mahashivratri 2021 wishes,
happy mahashivratri wishes,
mahashivratri date 2021,    
mahashivratri banner,
2021 mahashivratri,

mahashivratri 2021 status hindi,

mahashivratri images 2021,

mahashivratri 2021 hindi,
why mahashivratri is celebrated,

kavach mahashivratri,

mahashivratri wishes in hindi,

2021 mein mahashivratri kab hai,
mahashivratri in 2021    ,

mahashivratri ki hardik shubhkamnaye,    

mahashivratri ki hardik shubhkamnaen,    

mahashivratri quotes in english,    

mahashivratri rangoli,

mahashivratri 2021 muhurat,

mahashivratri status video download    ,

when is mahashivratri 2021,

1080p mahashivratri hd images,
MahaShivratri 2022

MAHASHIVRATRI PUJA SIGNIFICANCE: महाशिवरात्रि पूजा का महत्व

महाशिवरात्रि पर्व के यदि धार्मिक महत्व की बात की जाए तो महाशिवरात्रि शिव और माता पार्वती के विवाह की रात्रि मानी जाती है. मान्यता है इस दिन भगवान शिव ने सन्यासी जीवन से ग्रहस्थ जीवन की ओर रुख किया था. महाशिवरात्रि की रात्रि को भक्त जागरण करके माता-पार्वती और भगवान शिव की आराधना करते हैं. मान्यता है जो भक्त ऐसा करते हैं उनकी सभी मनोकामना पूरी होती है.

MAHASHIVRATRI 2022: महाशिवरात्रि तिथि 2022

हिंदू पंचांग के अनुसार इस वर्ष महाशिवरात्रि का पर्व 01 मार्च, मंगलवार को है. चतुर्दशी तिथि मंगलवार की सुबह 03 बजकर 16 मिनट से शुरू होकर 02 मार्च, बुधवार को सुबह करीब 10 बजे तक रहेगी.

MAHASHIVRATRI 2022 DATE: इस दिन पूजा करना का विशेष फलदायी

वैसे तो इस दिन मंदिर जाकर पूजन करना विशेष फलदायी होता है, लेकिन यदि आप नहीं जा पाते हैं तब भी घर पर ही पूजन करें.

महाशिवरात्रि का उपवास व जागरण क्यों ?

ऋषि महर्षियों ने समस्त आध्यात्मिक अनुष्ठानों में उपवास को महत्त्वपूर्ण माना है. गीता के अनुसार उपवास विषय निवृत्ति का अचूक साधन है. आध्यात्मिक साधना के लिये उपवास करना परमावश्यक है. उपवास के साथ रात्रि जागरण का महत्व है. उपवास से इन्द्रियों और मन पर नियंत्रण करने वाला संयमी व्यक्ति ही रात्रि में जागकर अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रयत्नशील हो सकता है. इन्हीं सब कारणों से इस महारात्रि में उपवास के साथ रात्रि में जागकर शिव पूजा करते हैं .

MAHASHIVRATRI 2022: पूजा सामग्री

भगवान शिव पर अक्षत, पान, सुपारी, रोली, मौली, चंदन, लौंग, इलायची, दूध, दही, शहद, घी, धतूरा, बेलपत्र, कमलगट्टा आदि भगवान को अर्पित करें. पजून करें और अंत में आरती करें.

MAHASHIVRATRI 2022: महाशिवरात्रि पूजा मान्यताएं

मान्यता है कि इस दिन महादेव का व्रत रखने से सौभाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है. महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव के लिंग स्वरूप का पूजन किया जाता है. यह भगवान शिव का प्रतीक है. शिव का अर्थ है- कल्याणकारी और लिंग का अर्थ है सृजन.

महाशिवरात्रि पूजा विधि Happy Shivratri puja vidhi

महाशिवरात्रि के दिन सबसे पहले शिवलिंग में चन्दन के लेप लगाकर पंचामृत से शिवलिंग को स्नान कराएं.

दीप और कर्पूर जलाएं.

पूजा करते समय ‘ऊं नमः शिवाय’ मंत्र का जाप करें.

शिव को बिल्व पत्र और फूल अर्पित करें.

शिव पूजा के बाद गोबर के उपलों की अग्नि जलाकर तिल, चावल और घी की मिश्रित आहुति दें.

होम के बाद किसी भी एक साबुत फल की आहुति दें.

सामान्यतया लोग सूखे नारियल की आहुति देते हैं.

महाशिवरात्रि पर ऐसे करें जलाभिषेक

मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर सबसे पहले पंचामृत (दूध, गंगाजल, केसर, शहद और जल का मिश्रित घोल) चढ़ाना चाहिए. इस दिन कुछ लोग चार प्रहर में पूजा करते हैं. उन्हें पहले प्रहर में जल, दूसरे प्रहर में दही, तीसरे प्रहर में घी और चौथे प्रहर में शहद से चढ़ाना चाहिए.

mahashivratri 2021 22, mahashivratri ,mahashivratri images happy MahaShivratri,mahashivratri 2021 date, happy mahashivratri 2021, mahashivratri kab hai ,happy mahashivratri images, happy mahashivratri image,mahashivratri 2022,mahashivratri status mahashivratri 2021 status mahashivratri wishes