Dr. Kamal Ranadive 104th Birthday, जानिए कौन है यह भारतीय महिला जिनके लिए गूगल ने बनाया डूडल

Dr. Kamal Ranadive , Dr. Kamal ranadive in Hindi, Dr. Kamal Ranadive biography, dr. Kamal Ranadive Google doodle , डॉ. कमल रनादिवे, Kamal Ranadive Contribution, kamal Ranadive biography, kamal Ranadive

कमल रनादिवे , née Kamal Jayasing Ranadive एक भारतीय महिला चिकित्सक है जिन्होंने कैंसर पर रिसर्च किया। Dr. Kamal randive के 104th जन्मदिन पर गूगल ने डूडल बना कर उन्हें श्रद्धांजलि दि।

एक ऐसी महिला जिन्होंने कैंसर को लेकर एक बहुत ही महत्वपूर्ण खोज किया, और भारतीय महिला वैज्ञानिक एसोसिएशन की सदस्य भी रही। डॉ रनादिवे एक कोशिश बायोलॉजीस्ट थी।

Dr. Kamal Ranadive
Dr. Kamal Ranadive Biography

Dr. Kamal Ranadive Biography

Dr. Kamal Ranadive का जन्म 8 नवंबर 1917 मे पुणे मे हुआ था इनके पिता एक जीवविज्ञान के प्रोफेसर थे। इनका मानना था की स्त्री हो या पुरुष सब को सामान शिक्षा का अधिकार मिलना चाहिए, दरसल उस समय का समाज स्त्री शिक्षा पर बल नहीं देता था, डॉ. कमल रनादिवे उस समाज से आकर देश की एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक बनी। इनके पिता चाहते थे की डॉ रनादिवे चिकित्सा के क्षेत्र मे अकेडमी उत्कृष्टता प्राप्त करे, लेकिन डॉ. रनादिवे जीव विज्ञान मे ज्यादा रूचि रखती थी इसलिए उन्होंने जीव विज्ञानं को ही अपना कार्य क्षेत्र बनाया। और जीव विज्ञानं मे 1949 मे doctorate की उपाधि प्राप्त की।

पूरा नाम Kamal Jayasing Ranadive
जन्म 8 नवंबर 1917
उपाधि Doctorate in cytology
पुरस्कार पद्म भूषण (1984)
गोल्ड मेडल (Indian medical council द्वारा )
Dr. Kamal Ranadive biography in Hindi

डॉ. कमल रनादिवे एक cell biologist थी जिन्होंने ब्रेस्ट कैंसर से सम्बंधित खोज की, यह एक पहली भारतीय महिला खोजकर्ता थी जिन्होंने बताया की स्तन कैंसर और आनुवंशिकता के बीच सम्बन्ध होता है और इन्होने कैंसर और सम्बंधित वायरस की पहचान भी की। बाद मे यह बात रिसर्च से सच साबित हुई।

अपने अभूतपूर्व खोज को जारी रखते हुए, कमल रणदिवे ने माइकोबैक्टीरियम लेप्राई का अध्ययन किया, जो जीवाणु कुष्ठ रोग का कारण बनता है, और एक टीका विकसित करने में सहायता करता है। 1973 में, डॉ.कमल रणदिवे ने महिला वैज्ञानिक संघ (IWSA) की स्थापना की।

डॉ. कमल रनादिवे Cancer Research Institute, Tata Memorial Centre (1966-77); and later Emeritus Medical Scientist, ICMR मे बायोलॉजी हेड भी रही है।

यह भी पढ़े –

डॉ. रनादिवे ने विदेशो मे पढ़ रहे भारतीय छात्रों को प्रोत्साहित किया को भारत आये और और अपने खोज को अपने समुदाय के लोगो के लिए करे। 1989 मे डॉ रनादिवे रिटायर होने के बाद महाराष्ट्र के ग्रामीण समुदाय मे काम किया और महिलाओ को हेल्थ केयर की ट्रेनिंग दि।

भारत सरकार द्वारा इन्होने पद्म भूषण से नवाज़ा गया। 2001 मे इनका स्वर्गवासहो गया।

Kamal Ranadive Contribution

एक वैज्ञानिक के रूप मे डॉ कमल रनादिवे ने रिटायर होने के बाद महाराष्ट्र के ग्रामीण क्षेत्र मे महिलाओ के स्वस्थ के लिए अपना योगदान दिया। कमल रनादिवे ने स्वस्थ विभाग के महिलाओ को ट्रेनिंग दिया। कमल रनादिवे ने IWSA की स्थापना किया और महिलाओ को स्वस्थ विभाग से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया।

Who was Dr kamal Ranadive?

डॉ. कमल रनादिवे एक भारतीय जीव वैज्ञानिक थी, जिन्होंने कैंसर और आनुवंशिकताके बीच सम्बन्ध का पता लगाया। इन्हे भारत सरकार द्वारा 1984 मे पद्म भूषण से नवाजा गया।

Indian Women Scientists Association ( IWSA) की स्थापना किसने किया?

IWSA की स्थापना Dr. Kamal Ranadive ने 1973 मे किया था।

Who is the first scientist of Maharashtra?

Maharashtra की पहली वैज्ञानिक डॉ कमल रनादिवे थी, जिन्होंने कैंसर पर अपनी महत्वपूर्ण खोज की। कमल रनादिवे को 1984 मे पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *